आघार कार्ड की कैसे बढ़ाएं प्राइवेसी

आधार की प्राइवेसी को लेकर लोगों की चिंताओं को देखते हुए यूआईडीएआई ने वर्चुअल आईडी (वीआइडी) का बीटा वर्जन जारी किया है यानि अब सत्यवान के लिए आधार नंबर की जगह वर्चुअल आईडी का इस्तेमाल कर पाएंगे....

आजकल सभी तरह की सरकारी सुविधाओं के लिए आधार की जरूरत होती है। यहां तक कि बैंक अकाउंट खुलवाने, स्कूल में बच्चों के लिए एडमिशन करवाने या फिर नए सिम कार्ड के लिए आधार कार्ड की जरूरत पड़ने लगी है। ऐसे में इस की सिक्योरिटी को लेकर चिंता होना स्वाभाविक है और वह भी, तब जब हाल के दिनों में आधार ID का इस्तेमाल कर डाटा लीक के कई मामले सामने आए हैं, लेकिन अब सरकारी और गैर सरकारी कार्यों के लिए आधार का इस्तेमाल करते हैं तो प्राइवेसी की चिंता करने की जरूरत नहीं है।
यूआइडीएआइ वर्चुअल ID जनरेट करने की सुविधा के बाद अपनी पहचान को सत्यापित करने के लिए आधार नंबर की बजाय वर्चुअल ID (बीआइडी) का इस्तेमाल कर पाएंगे इसे यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाकर जनरेट किया जा सकता है।

बीआइडी क्या है?

वीआईडी आस्थाई रूप से जनरेट किया गया 16 डिजिट का एक नंबर है, जो आधार नंबर से लिंक होता है। यह नंबर अस्थाई है और बदलता रहता है। यह आपके आधार के लिए मास्क (मुखोटे) की तरह कार्य करता है, जिससे असली आधार नंबर को छुपाया जा सकता है। जिस तरह किसी व्यक्ति की पहचान को सत्यापित करने के लिए आधार का उपयोग किया जाता है, उसी तरह अब वीआइडी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके इस्तेमाल से किसी व्यक्ति के आधार नंबर को जानना संभव नहीं हो पाएगा। बीआईडी नंबर देने पर आॅथराइज्ड एजेंसी, जैसे मोबाइल कंपनियों को नाम, पता और फोटो जैसी सीमित जानकारी ही मिलेगी, जो वेरिफिकेशन के लिए पर्याप्त है।

Read More:- लो लाइट फोटोग्राफी कैसे करें

वीआइडी के फायदे

° virtual ID  की मदद से अपने ओरिजिनल आधार नंबर को गुप्त रख पाएंगे।

° आप जिसके साथ भी अपना वर्चुअल ID साझा करेंगे, वह सिर्फ आपका नाम पता और आपकी फोटो को ही उस वर्चुअल ID से देख पाएगा।

• अपनी जरूरत के हिसाब से तय समय सीमा के लिए वर्चुअल ID को जनरेट कर सकेंगे। इसका मतलब यह है कि अगर आप सिर्फ 1 हफ्ते के लिए एक वर्चुअल ID को जनरेट करते हैं और जिसके साथ साझा कर रहे हैं, वह सिर्फ एक हफ्ते तक ही आपके डेटा को एक्सेस कर सकेगा। आठवें दिन वह नंबर कार्य नहीं करेगा।

• आप जब चाहें और जितनी बार चाहे वर्चुअल ID जनरेट कर सकते हैं।

• बी ID का इस्तेमाल वह सभी आधार धारक कर सकते हैं, जिनके मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड है।

• वर्चुअल id की व्यवस्था आने के बाद हर एजेंसी आधार वेरिफिकेशन के काम को आसानी से और पेपरलेस तरीके से कर सकेगी। 

कैसे जनरेट करें बीआइडी

• सबसे पहले यूआईडीएआई वेबसाइट (https://resident.uidai.gov.in/web/resident/vidgeneration ) के होम पेज पर जाएं। यहां आपको आधार सर्विसेज टैब में सबसे नीचे की तरफ वर्चुअल ID (बीआइडी) जनरेटर का ऑप्शन दिखेगा। इस पर क्लिक करें यह प्रक्रिया तभी संभव है, जब आपका मोबाइल नंबर यूआईडीएआई के डेटाबेस पर रजिस्टर हो, क्योंकि रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ही वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) आता है।

• वर्चुअल ID जनरेटर टैब पर क्लिक करने के बाद आप एक नए पेज पर पहुंच जाएंगे, जहां आपको आधार नंबर और सिक्योरिटी कोड यानी कैप्चा भरने के लिए कहा जाएगा। डिटेल देने के बाद ओटीपी भेजने के लिए ऑप्शन पर क्लिक करें। इसके बाद ओटीपी आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा।

• फिर ओटीपी डालने के बाद बीआइडी जनरेट करने के लिए बने सकि्ल मे क्लिक कर बीआइडी जनरेट कर सकते हैं और यह आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजा जाएगा। यहां पर बीआइडी को फिर से प्राप्त करने या रिटि्व का एक विकल्प भी मौजूद है।

कुछ जरूरी बातें


• वीआइडी केवल आधार कार्ड होल्डर ही जनरेट कर सकता है। अभी वीआइडी के लिए एक दिन का समय सेट किया गया है यानी आप हर दिन एक नया वीआइडी जनरेट कर सकते हैं। जैसे ही नया वीआइडी जनरेट करेंगे पुराना एक्टिव वीआइडी एक्सपायर यानी खत्म हो जाएगा। यदि आधार कार्ड होल्डर वीआइडी को भूल जाते हैं, तो इसे फिर से हासिल करने का विकल्प यूआईडीएआई पोर्टल पर मौजूद है। फिलहाल वीआइडी जनरेट करने की सुविधा केवल यूआईडीएआई की वेबसाइट पर ही है।

• वीआइडी तत्कालिक होता है। आधार कार्ड होल्डर इसे बदल सकते हैं इसलिए एजेंसी द्वारा स्टोर किए गए वीआईडी की कोई वैल्यू नहीं रह जाती है।

• अभी वीआइडी के लिए कोई एक्सपायरी पीरियड नहीं किया गया है। जब तक आधार कार्ड होल्डर कोई नया वीआइडी जनरेट नहीं कर लेते तब तक यह वैलिड रहता है।

यूआइयूआई की आॅनलाइन सर्विसेज

युआइडीआइ की वेबसाइट से आप आधार से जुड़ी कई तरह की सेवा का ऑनलाइन फायदा उठा सकते हैं.....

• यहां यूजर आधार एनरोलमेंट और अपडेट सेंटर को ऑनलाइन सर्च कर सकते हैं।

• आधार एप्लीकेंट यहां पर अपने आधार कार्ड के स्टेटस को चेक कर सकते हैं। इसके लिए यूआईडीएआई पोर्टल के होम पेज पर 'चेक आधार स्टेटस' में जाना होगा।

• आधार एनरोलमेंट नंबर या फिर आधार नंबर खो जाने की स्थिति में पोर्टल से फिर हासिल किया जा सकता है।

• अगर आपको अपने एड्रेस में कुछ संशोधन करना है, तो ऑनलाइन इस वेबसाइट के जरिए किया जा सकता है। अगर अपडेट के स्टेटस को चेक करना चाहते हैं, तो फिर 'चेक स्टेटस - अपडेशन डन ऑनलाइन' लिंक पर क्लिक करें।

• यूआईडीएआइ की वेबसाइट से आधार कार्ड को डिजिटल फाॅम में डाउनलोड कर सकते हैं।

• वेरीफाई ईमेल/मोबाइल नंबर लिंक पर जाकर अपने ईमेल एड्रेस और मोबाइल नंबर को वेरीफाई कर सकते हैं। इसके अलावा, आपका अकाउंट बैंक से लिंक है या नहीं यह स्टेटस भी जान सकते हैं।


• आॅथेंटिकेशन के आधार के लिए आधार का इस्तेमाल कहां -कहां हुआ है, उसकी हिस्ट्री इस साइट पर देखी जा सकती है।

• अपनी प्राइवेसी के लिए चिंतित यूजर यहां बायोमेट्रिक लॉक - अनलॉक कर सकते हैं।


आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी कमेंट कर हमे अपना फीडबैक जरूर दें, ताकि हम आपके लिए आगे ऐसी और पोस्ट लाते रहै।

Hello Dosto, Mera naam Shailendra kumar hai. Mujhe logo ki Help karna pasand hai. ye site maine bai hai jaha par mai logo ki help karta hu hindi me. is site par aapko internet, blogger, youtube, seo, adsense, tips and tricks se releted jankari milegi.

1 comment:

Follow Us

Amazon

Popular Posts